उत्तराखंड में फिर लौटा हरीश राज, सुप्रीम कोर्ट ने किया बहुमत का ऐलान !

  1. सुप्रीम कोर्ट के सहारे एक बार फिर हरीश रावत उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बन गए. दोपहर 12 बजे सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस शिव कीर्ति सिंह की बेंच के सामने मामले की सुनवाई शुरू हुई.
  2. बंंद लिफाफे के खुलते ही अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने केंद्र की तरफ से कहा की हमारी जानकारी के मुताबिक हरीश रावत शक्ति परीक्षण में विजयी हुए हैं और केंद्र उत्तराखंड से राष्ट्रपति शासन हटा रहा है इसलिए हरीश रावत फिर से मुख्यमंत्री बन सकते हैं.
  3. कोर्ट ने कहा” कुल 61 वोटों में से प्रतिवादी नंबर 1 हरीश रावत के समर्थन में 33 वोट निकले और विपक्ष में 28 वोट निकले हैं. हरीश रावत मुख्यमंत्री पद संभाल सकते हैं”.
  4. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है की वो राष्ट्रपति शासन हटाने के फैसले की कॉपी शुक्रवार से पहले कोर्ट में जमा करेगी. शुक्रवार को इस मामले में अगली सुनवाई होगी.
  5. दूसरी तरफ, उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगाने के फैसले और 9 विधायकों को बर्खास्त करने के उत्तराखंड विधान सभा स्पीकर के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करता रहेगा. इस मामले की अगली सुनवाई 12 जुलाई को होगी.  By – Mohit Grover 
Advertisements

अखिलेश यादव ने सूखा राहत के लिए केंद्र से मांगी 10 हजार करोड़ की मदद

  1. सूखा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी नई दिल्ली में बैठक कर रहे हैं. इस दौरान यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर राज्य की स्थिति पर बातचीत की.
  2. यूपी सीएम के साथ राज्य के चीफ सेक्रेटरी आलोक रंजन भी बैठक में मौजूद थे. अखिलेश यादव ने सूखे से निपटने के लिए केंद्र सरकार से 10,600 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता मांगी है.
  3. इसके अलावा 10 हजार टैंकर और 5 हजार हैंडपंप की मांग की गई है.
  4. यूपी के कुल 75 में से 55 जिले सूखे से प्रभावित हैं. इसमें अकेले बुंदेलखंड के ही 7 जिले शामिल हैं. बैठक में पीएम के साथ कृषि मंत्री राधामोहन सिंह भी मौजूद हैं.
  5. सूखे से प्रभावित तीन राज्य यूपी, महाराष्ट्र और कर्नाटक के मुख्यमंत्री आज प्रधानमंत्री के साथ बैठक करेंगे. हालांकि यह तीनों बैठक अलग-अलग समय पर होंगी. By – Mohit Grover

उत्तराखंड में 10 मई को होगा फ्लोर टेस्ट, बागी विधायक नहीं दे सकेंगे वोट

  1. सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड में सरकार के शक्ति परीक्षण के निर्देश दिए हैं. शुक्रवार को सर्वोच्च अदालत ने कहा कि उसे सरकार के फ्लोर टेस्ट पर कोई एतराज नहीं है, लेकिन तय प्रकिया के तहत ही बहुमत का इम्तिहान लिया जाएगा. कोर्ट ने अपने निर्देश में कहा कि मंगलवार 10 मई को बहुमत का परीक्षण होगा, जिसमें 9 बागी विधायक वोट नहीं दे सकेंगे.

      2. कोर्ट ने कहा कि 10 मई को सुबह 11 बजे से एक बजे तक बहुमत का परीक्षण होगा. राज्य में अभी राष्ट्रपति शासन               लागू है, जिसे फ्लोर टेस्ट के दौरान दो घंटे के लिए हटा लिया जाएगा. दूसरी ओर, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश              रावत ने कहा कि कांग्रेस और उनके विधायक बहुमत परीक्षण के लिए तैयार हैं.

      3. इसके साथ ही कोर्ट ने बागी विधायकों की उस याचिका को भी खारिज कर दिया है, जिसमें उन्होंने बंद लिफाफे के               जरिए वोट करने की अनुमति मांगी थी. सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्देश में साफ तौर पर कहा कि सभी बागी विधायको को इस परीक्षण की पूरी प्रक्रिया से अलग रखा जाए. कोर्ट ने विधायकों की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि आप सभी को स्पीकर द्वारा अयोग्य घोषित किया गया है.

4. कोर्ट ने कहा कि परीक्षण के दौरान पूरी प्रक्रिया की वीडियाग्राफी की जाएगी. इस बात पर केंद्र सरकार को हरीश रावत दोनों पक्षों ने अपनी सहमति दर्ज की. अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि मतदान की प्रक्रिया पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त या पूर्व न्यायाधीश की निगरानी में कराई जाए.

5. गौरतलब है कि उत्तराखंड में सियासी संकट की शुरुआत 18 मार्च को हुई. इस दिन कांग्रेस के 36 विधायकों में से नौ बागी हो गए और वित्त विधेयक पर मतदान के समय बीजेपी के विधायकों के साथ नजर आए थे.

पर्रिकर बोले – जो काम हम बोफोर्स में नहीं कर सके, अगस्ता में करेंगे

  1. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने लोकसभा में अगस्ता केस को लेकर कांग्रेस पर तीखा हमला किया है. उन्होंने एक बार फिर कहा कि वह चॉपर डील में इस बात का पता लगाकर रहेंगे कि रिश्वत का पैसा कहां और किसके पास गया. यही नहीं, उन्होंने कहा कि जो काम बोफोर्स के समय नहीं हो सका, वह अगस्ता मामले में होगा.
  2. पर्रिकर वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाला मामले में संसद में बयान दे रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा, ‘मेरे पास ईडी और सीबीआई नहीं है, लेकिन मैं फिर भी इस मामले को देख रहा हूं. जो काम हम बोफोर्स के दौरान नहीं कर सके, अगस्ता मामले में करेंगे.’
  3. लोकसभा में अगस्ता केस पर बोलते हुए रक्षा मंत्री ने एक बार फिर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘ये लोग भाग्यशाली हैं, लेकिन मैं अभी भी इटली कोर्ट के फैसले का अनुवाद कर रहा हूं. इसमें कोई शक नहीं है कि त्यागी और खेतान ने बहती गंगा में हाथ धो लिए लेकिन ये गंगा कहां जा रही है मैं वो ढूढ़ रहा हूं.कांग्रेस को चिंता हो रही है, क्योंकि इन्हें मालूम है कि गंगा कहां जा रही है.’
  4. गौरतलब है कि इससे पहले जंतर-मंतर पर मनमोहन सिंह ने कांग्रेस को बहती हुई गंगा बताया. उन्होंने कहा, ‘मोदी जी जहां भी जाते हैं कांग्रेस के सफाए की बात करते हैं. लेकिन कांग्रेस बहती हुई गंगा है, जो कभी नहीं रुकेगी. कांग्रेस को कई लोगों ने मिटाने की कोशि‍श की, लेकिन नाकाम रहें.’
  5. रक्षा मंत्री ने कहा कि यूपीए सरकार ने एक कंपनी को टेंडर देने की लिए नियम बदल दिए. उन्होंने कहा, ‘फरवरी 2012 में जब इटली में मामला सामने आया तब यूपीए सरकार ने कुछ नहीं किया. कंपनी को पूछा भी नहीं गया. यदि उस वक्त तत्काल कार्रवाई करते तो मामला आगे बढ़ता ही नहीं. यही कारण है कि दिसंबर 2012 में 3 हेलिकॉप्टर भारत आ गए.’  By – Mohit Grover 

JNU छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया ने गांधी और भगत सिंह से की खुद की तुलना !

  1. जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने एक बार फिर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ आवाज उठाई है. कन्हैया ने वीसी के उस बयान का विरोध किया है जिसमें उन्होंने कैंपस में जारी भूख हड़ताल को गैरकानूनी कहा था.
  2. कन्हैया ने जवाब में ट्वीट करके कहा, ‘जेएनयू के वीसी कह रहे हैं कि भूख हडताल गैरकानूनी है. इसका मतलब ये हुआ कि गांधी और भगत सिंह भी गैरकानूनी थे?’
  3. छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और उनके साथी 9 फरवरी को हुई घटना पर विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से जुर्माना लगाए जाने और कुछ छात्रों को सस्पेंड किए जाने के फैसले का विरोध कर रहे हैं. फैसले का विरोध करते हुए आरोपी छात्रों ने कैंपस में ही भूख हड़ताल शुरू कर दी.
  4. भूख हड़ताल पर जेएनयू के वीसी जगदीश कुमार ने लिखित अपील जारी करते हुए कहा था कि वह छात्रों के खराब स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं. भूख हड़ताल गैरकानूनी गतिविधि है और विरोध जताने का नुकसानदायक तरीका है. उन्होंने छात्रों से भूख हड़ताल खत्म करने की अपील की थी.
  5. छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और उनके साथी 9 फरवरी की  घटना के बाद से ही लगातार चर्चा में है ।  By – Mohit Grover 

स्वामी ने पढ़ा अगस्ता के बिचौलिए का खत, सोनिया के जिक्र पर कांग्रेस का हंगामा –

  1. राज्यसभा में अगस्टा-वेस्टलैंड पर हंगामे के साथ शुरू हुई बहस. कांग्रेस ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए उसकी नीयत पर सवाल उठाया. वहीं स्वामी ने कहा कि मामले का बदले की भावना से कोई लेना-देना नहीं है.
  2. कांग्रेस ने कहा कि सरकार खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है. वहीं लोकसभा में बीजेपी के किरीट सोमैया ने राहुल गांधी पर हमला बोला. उन्होंने लोकसभा में एमजीएफ कंपनी को फायदा पहुंचाने का मुद्दा उठाया. सोमैया ने मामले में राहुल से सफाई मांगी.
  3. राज्यसभा में बोलते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि मामले का बदले की भावना से कोई लेना-देना नहीं है. आरोप तथ्यों पर आधारित हैं. इसमें किसने नियमों में छूट दी? यूपीए ने अगस्ता के लिए नियम बदले. उन्होंने कहा कि हेलीकॉप्टर की उड़ान कम थी. वह 4500 फीट से ऊंचा नहीं उड़ सकता था. उड़ान किसने कम की?. 2006 में उड़ान की ऊंचाई कम की गई. एनडीए ने हेलीकॉप्टर खरीद की प्रक्रिया शुरू की थी. एनडीए के लोगों ने उड़ान कम नहीं की. स्वामी ने कहा कि 2006 में जिसने इसकी ऊंचाई कम की, वही असली अपराधी हैं. अब इटली हाई कोर्ट के फैसले के बाद सरकार इसमें समुचित कार्रवाई करेगी.
  4. स्वामी ने राज्यसभा में क्रिश्चियन मिशेल का खत पढ़ा. खत में सोनिया गांधी का नाम लिया गया है. खत में सोनिया को ड्राइविंग फोर्स बताया गया है. खत में सोनिया का नाम लेने पर कांग्रेस के साथ उपसभापति ने भी सवाल उठाए. उपसभापति ने कॉपी की सत्यता साबित करने को कहा है. स्वामी ने कहा कि वे इसकी सत्यता साबित करने को तैयार हैं. क्रिश्चियन मिशेल अगस्ता मामले में बिचौलिए हैं.
  5. राहुल ने सोमैया के आरोपों पर कहा , हां, मेरे पास वो दुकानें हैं, जिनका जिक्र चुनावी हलफनामे में किया है. इसमें क्या गलत है. कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी ने शायरी बोलकर सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा- शाखों से टूट जाएं, वो पत्ते नहीं हैं हम, आंधियों से कह दो अपनी औकात में रहें  #Congress #India #BJP #Swami #Italy #AgustaWestland – Mohit Grover