उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा ‘वीरप्पन’

 

  1. तीन राज्यों के संयुक्त प्रयासों वाले ‘ऑपरेशन कुकून’ में 12 साल पहले मारे गए वीरप्पन को काबिल डायरेक्टर रामगोपाल वर्मा पर्दे पर फिर से जीवंत करने में नाकाम साबित होते है.
  2. फिल्म की सबसे बड़ी कमजोरी ना सिर्फ फिल्म की सपाट और प्रेडिक्टेबल कहानी है, बल्कि प्रॉबल्म ये भी है कि पूरी फिल्म ‘वीरप्पन’ की जिंदगी औऱ दरिंदगी पर नहीं, उसे पकड़ने और उसे मारने के प्लॉट के इर्द-गिर्द घूमती है, वो भी एक साधारण चोर-पुलिस स्टाइल में.
  3. गौरतलब है कि वीरप्पन को पकड़ने की कोशिशों में सबसे आगे रहे अफसर का रोल निभानेवाले सचिन जोशी फिल्म में खुद वीरप्पन से ज्यादा स्क्रीन स्पेस पाते हैं. फिल्म का दी एंड भी उन्हीं के एक डायलॉग – ‘एक राक्षस को मारने के लिए उससे भी बड़ा राक्षस बनना पड़ता है’ से होता है. ‘वीरप्पन’ की शुरुआत भी सचिन के वॉइसओवर से होती है, जो एक सपाट ढंग से उसकी जिंदगी को बयान करती है. पूरी फिल्म भी इसी तर्ज पर आगे बढ़ती और खत्म हो जाती है, शिद्दत से इस बात का एहसास कराए बगैर कि वीरप्पन किस कदर क्रूर और कुख्यात था.
  4. वैसे फिल्म में सपाट और प्रभावहीन अंदाज में एक्टिंग करने का श्रेय सिर्फ सचिन को नहीं जाता. वीरप्पन के हमले में मारे जाने वाले एक एसटीएफ अफसर की पत्नी श्रेया का किरदार निभानेवाली लीजा रे ओवरएक्टिंग करने के मामले में सबको पीछे छोड़ देती हैं. लीजा के चेहरे पर आनेवाले भावों का अतिरेक देखकर कहीं-कहीं हंसने का मन भी करता है.
  5. तकनीकी दक्षता और कैमरे की कारीगिरी के लिए जाने जानी वाली रामगोपाल वर्मा की फिल्मों के उलट ‘वीरप्पन’ एक भी ऐसा शॉट नहीं पेश नहीं करता, जो आपके जेहन पर चस्पां हो जाए, एक भी ऐसा डायलॉग नहीं बोलता है, जो आपको याद रह जाए. हां, फिल्म के पार्श्व में निरंतर बजने वाला संगीत और वीरप्पन की वीरता और क्रूरता को रेखांकित करनेवाले कुछ बेतुके गानों का शोर मन में कुंठा जरूर पैदा करता है और फिल्म को और बोझिल बनाने में मदद करता है.
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s