हादसों से बचने को इस तकनीक पर काम कर रहा रेलवे !

Story By – Mohit Grover.

  1. देशभर में फैली हुई लंबी रेल पटरियों को ऑटोमेटिक तरीके से जांच-परख पाने के लिए भारतीय रेलवे इस समय दक्षिण अफ्रीका के अल्ट्रासोनिक ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम ट्रायल कर रही है.
  2. अल्ट्रासोनिक ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम दक्षिण अफ्रीका के रक्षा विभाग द्वारा तैयार की गई वह तकनीक है जिसमें अल्ट्रासोनिक तरंगों का इस्तेमाल करके रेल पटरियों के फ्रैक्चर को समय रहते जाना जा सकता है.
  3. अल्ट्रासोनिक ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम में अल्ट्रासोनिक तरंगों की गाइडेड तरंग इस्तेमाल की जाती है, इस तकनीक में 1 किलोमीटर लंबी रेल की पटरी में जोड़ों के आसपास अल्ट्रासाउंड तरंगों का इस्तेमाल करके हर मिनट पर रेल पटरी की सलामती चेक की जाती है जैसे ही पटरी में टूट-फूट की संभावना दिखती है तो सिस्टम का अलार्म इसको संबंधित रेल डिपार्टमेंट को चला जाता है.
  4. इस सिस्टम में रेल पटरियों के बीच में एक तरफ रिसीवर लगाए जाते हैं तो दूसरी तरफ ट्रांसमीटर लगाए जाते हैं रिसीवर और ट्रांसमीटर आपस में एक दूसरे से संपर्क बनाए रखते हैं.
  5. रेल बोर्ड के एक अधिकारी के मुताबिक अल्ट्रासोनिक ब्रोकन रेल डिटेक्शन सिस्टम की कीमत 1500000 रुपये प्रति किलोमीटर आएगी. लेकिन जब इस तकनीक को मेक इन इंडिया के जरिए भारत में बनाया जाएगा तो यह कीमत गिरकर 400000 से 500000 रुपए प्रति किलो मीटर तक आ जाएगी.
Advertisements

खाप पंचायत ने लगाई खुले में शराब पीने पर रोक, डीजे पर भी लगा बैन

By – Mohit Grover

  1. सांगवान की खाप पंचायत ने गांवों में खुले में शराब पीने पर रोक लगाई है वहीं साथ ही शादी या कार्यक्रमों में फायरिंग पर भी खाप ने रोक लगाई है.
  2. सांगवान खाप का यह फैसला पंचायत के उनके तहत आने वाले 40 गांवों पर लागू होगा. खाप ने रात को तेज आवाज में डीजे बजाने पर भी रोक लगाई है, सभी फैसले 15 जनवरी से इन गांवों में लागू होंगे.
  3. यह फैसला रविवार को दादरी के गांव खेड़ी बूरा स्थित सांगू धाम पर आयोजित जिले की सबसे बड़ी खाप खाप सांगवान चालीस की पंचायत में लिया गया.
  4. इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के मुताबिक पंचायत ने आबकारी विभाग को इन गांवों में नए ठेके ना खोलने के लिए पत्र भी लिखा है.
  5. पंचायत में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, बेटी खिलाओ का नारा देते हुए कहा गया कि दादरी जिले की बेटियां प्रत्येक क्षेत्र में नाम रोशन कर रही है, अपने दमदार खेल प्रदर्शन के जरिए पूरे विश्व में उनका डंका बज रहा है. ऐसे में बेटियों को भी पढ़ने व खेलने का पूरा मौका दिया जाना चाहिए.

जानें कौन है अब्दुल्ला खान !

Story By : Mohit Grover

  1. पेशे से इंजीनियर और गलगोटिया इंजीनिरिंग कॉलेज से एमटेक अब्दुल्ला आज़म अब अपने पिता की राजनितिक विरासत को आगे बढ़ाएंगे.
  2.  रामपुर के स्वारटांडा सीट से समाजवादी पार्टी के टिकट पर अपनी किस्मत आजमाएंगे अब्दुल्ला आज़म.
  3.  पिता ने बड़े बेटे की जगह छोटे को पहले क्यों चुना इसपर फिलहाल सब चुप है लेकिन पिता आज़म खान कुछ महीने पहले ही बेटे की उम्मीदवारी का ऐलान कर चुके है. अब्दुल्ला आज़म पिता की बनाई जौहर यूनिवर्सिटी के सीईओ भी हैं जो आज़म खान की ड्रीम प्रोजेक्ट है.
  4.  नए जनरेशन की तरह अब्दुल्ला सोशल मीडिया में भी काफी सक्रिय है और फ़ेसबुक और ट्विटर पर इनके हज़ारों फॉलोवर भी है.
  5. 5. अब्दुल्ला के पिता और मां दोनों सियासत में है ऐसे में रामपुर का ये परिवार खानदानों की सियासत में सैफई परिवार के नक़्शे कदम पर चलता दिख रहा है.

13 दिसंबर 2001, संसद हमले की 5 बड़ी बातें!

Story By – Mohit Grover.

  1. 3 दिसंबर, 2001 को संसद की कार्यवाही चल रही थी। दोनों सदन गोलीबारी से करीब 40 मिनट पहले ही स्थगित हुए थे। इसी बीच सुबह करीब 25 पर एके-47 बंदूकों और हैंड ग्रेनेड से लैस पांच आतंकियों ने हमला बोल दिया।
  2. आतंकियों का सामना करते हुए दिल्ली पुलिस के पांच जवान, सीआरपीएफ की एक महिला कांस्टेबल और संसद के दो गार्ड शहीद हुए और 16 जवान इस मुठभेड़ में घायल हुए। संसद भवन पर में कोई आंच न आए, इसलिए उन्होंने अपनी जान की बाजी लगा दी और सभी आतंकियों को मार गिराया।
  3. हमले की साजिश रचने वाले मुख्य आरोपी अफजल गुरु को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया। संसद पर हमले की साजिश रचने के आरोप में सुप्रीम कोर्ट ने 4 अगस्त, 2005 को उसे फांसी की सजा सुनाई थी। कोर्ट ने आदेश दिया था कि 20 अक्टूबर, 2006 को अफजल को फांसी पर लटका दिया जाए। लेकिन 3 अक्टूबर, 2006 को अफजल की पत्नी तब्बसुम ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल कर दी।
  4. 2008 में हुए मुंबई हमले के आरोपी अजमल कसाब को फांसी दिए जाने के बाद देश में अफजल गुरु को फांसी देने की मांग जोर पकड़ने लगी। राष्ट्रपति ने इस दया याचिका पर गृह मंत्रालय से राय मांगी। मंत्रालय ने इसे दिल्ली सरकार को भेज दिया, जहां दिल्ली सरकार ने इसे खारिज करके गृह मंत्रालय को वापस भेजा।
  5. गृह मंत्रालय ने भी दया याचिका पर फैसला लेने में समय लगाया, लेकिन मंत्रालय ने अपनी फाइल राष्ट्रपति के पास भेज दी। इसके बाद 3 फरवरी, 2013 को राष्ट्रपति ने अफजल की दया याचिका खारिज कर दी। ‌फिर कैबिनेट समिति की बैठक में अफजल को फांसी दिए जाने की अंतिम तैयारी पर मुहर लगाई गई और 9 फरवरी, 2013 को अफजल गुरु को दिल्ली की तिहा‌ड़ जेल में फांसी पर लटका दिया गया।

सेंसेक्स के कारोबार में देखी गई तेजी !

Story By : Mohit Grover

  1. शुक्रवार को देश के शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख रहा. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 9.54 बजे 48.62 अंकों की बढ़त के साथ 26,742.90 पर खुला.
  2. निफ्टी भी लगभग इसी समय 3.70 अंकों की बढ़त के साथ 8,250.55 पर कारोबार करते देखे गए.
  3. बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 92.86 अंकों की तेजी के साथ 26,787.14 पर खुला.
  4. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 24.85 अंकों की तेजी के साथ 8,271.70 पर खुला.
  5. गुरूवार को भी देश के शेयर बाजारों में तेजी देखी गई थी. प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 457.41 अंकों के उछाल के साथ 26,694.28 पर और निफ्टी 144.80 अंकों की तेजी के साथ 8,246.85 पर बंद हुआ था.